1 November 2020

दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों को लाने के लिए रेलवे चला सकता है 400 स्पेशल ट्रेन, कई राज्यों के CM ने की मांग झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने प्रमुखता से रखी थी अपनी बात

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से एक महीने से अधिक समय से लॉकडाउन है। ऐसे में लाखों प्रवासी मजदूर अलग-अलग राज्यों में फंसे हैं और अपने घर नहीं जा पा रहे हैं। इस बीच इन मजदूरों की समस्या को देखते हुए केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। गृह मंत्रालय ने प्रवासी मजदूरों, छात्रों, मरीजों और उनके परिजनों के साथ-साथ पर्यटकों को राहत देते हुए आवाजाही की छूट दे दी है। यही नहीं केंद्र सरकार ने कहा है कि 3 मई को लॉकडाउन खत्म होने के बाद कई जिलों को भी इससे छूट दी जाएगी।

400 स्पेशल ट्रेन चलाई जा सकती हैं
सरकार ने अपनी गाइडलाइन में कहा है कि प्रवासी मजदूरों, छात्रों और अन्य लोग जो दूसरे राज्यों में फंसे हैं उन्हें बस से वापस भेजा जा सकता है।लेकिन इस बीच कई राज्यों में स्पेशल ट्रेन की मांग सामने रखी है। सूत्रों की मानें तो रेल मंत्रालय ने भी इस बाबत अपनी योजना बनानी शुरू कर दी है। तकरीबन 400 स्पेशल ट्रेनें हर रोज चलाने की योजना बनाई जा रही है। हालांकि अभी तक इस बात के संकेत नहीं मिले हैं कि यात्री ट्रेनों का संचालन शुरू किया जाएगा या नहीं, लेकिन रेलवे ने सरकार के साथ मिलकर शीर्ष स्तर पर योजना बनानी शुरू कर दी है।



रेलवे भी जुटा तैयारी में
एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हर बस में बमुश्किल 25 ही यात्री सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए बैठ सकते हैं। रेलवे के विस्तृत प्रोटोकॉल में भी एक पैराग्राफ इस बाबत है कि जो राज्य इस रेलवे के रूट में हैं उन्हें इसकी अनुमति मिलनी चाहिए, स्क्रीनिंग, के बाद नियंत्रित करके यात्रियों को जाने देना चाहिए। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि प्रवासी मजदूरों को लेकर इतने लंबे समय से की जा रही मांग को आखिरकार स्वीकार कर लिया गया। यह स्वागत योग्य कदम है, लेकिन केंद्र सरकार को रेलवे को इसके लिए अनुमति देनी चाहिए। पिछले कुछ दिनों में तमिलनाडु, केरल, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, नॉर्थ ईस्ट के तकरीबन 6 लाख लोगों ने वापस आने के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है, लिहाजा मैं अपील करता हूं कि रेलवे को इसके लिए अनुमति देनी चाहिए ताकि लोग अपने गंतव्य स्थान पर आसानी से पहुंच सके।

तमाम मुख्यमंत्रियों ने स्पेशल ट्रेन की मांग की
झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि उन्होंने रेलमंत्री पीयूष गोयल से बात की है, राज्यों को विशेष ट्रेनों की जरूरत होगी ताकि दूसरे राज्यों में फंसे छात्रों, प्रवासी मजदूरों को वापस लाया जा सके। राज्य के अनुसार तकरीबन 9 लाख झारखंड के लोग दूसरे राज्यों में फंसे हैं, जिसमे से 6.43 लाख प्रवासी मजदूर हैं। इससे पहले महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी स्पेशल ट्रेन चलाने की पीएम मोदी से मांग की थी। केरल के मुख्यमंत्री पिनारयी विजयन ने भी यह मांग सरकार के सामने रखी थी। साथ ही ओडिशा, उत्तर प्रदेश, पंजाब की सरकारों ने भी इस तरह की ही मांग सामने रखी है।

Relaxationजहां नहीं हॉस्पॉट उन्हें मिलेगी छूट

माना जा रहा है कि जिन जिलों में कोरोना वायरस का संक्रमण नहीं है वहां लॉकडाउन के बाद सरकार द्वारा राहत दी जा सकती है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने देश के 736 जिलों में से 129 जिलों को हॉटस्पॉट के तौर पर चिन्हित किया है। 15 अप्रैल को पहले लॉकडाउन के खत्म होने के समय देश में 177 जिलों की पहचान हॉटस्पॉट के तौर पर की गई थी। ऐसे में माना जा रहा है कि जिन जिलों में कोरोना वायरस का संक्रमण नहीं है और वह हॉटस्पॉट की लिस्ट में नहीं हैं, सरकार वहां लॉकडाउन में राहत दे सकती है।

Gov permit
सरकार ने दी इजाजत
दरअसल उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश ने अपने प्रवासी मजदूरों व छात्रों जोकि दूसरे राज्य में फंसे थे, उन्हें वापस लाने की प्रक्रिया शुरू कर दी थी। जिसके बाद बुधवार को केंद्र सरकार ने निर्देश जारी करके कहा कि लॉकडाउन की वजह से जो प्रवासी मजदूर, तीर्थयात्री, पर्यटक, छात्र या अन्य लोग दूसरी जगहों पर फंसे हैं उन्हें उनके घर जाने की अनुमति होगी। बता दें कि पीएम मोदी के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान झारखंड, बिहार, ओडिशा ने केंद्र सरकार से कहा था कि बिना गाइडलाइन के वह उन लोगों को वापस नहीं ला सकते हैं जो दूसरे राज्यों में फंसे हैं।


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

14 thoughts on “दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों को लाने के लिए रेलवे चला सकता है 400 स्पेशल ट्रेन, कई राज्यों के CM ने की मांग झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने प्रमुखता से रखी थी अपनी बात

  1. Ham Jharkhand ke rhne wale h aur ham log av Haryana me h aur ham log 8 log h ham Jharkhand sarkar se request krte h ke hame Jharkhand surchit laya jya Hemant sarkar se me request krta hu

  2. Thanks sir so sweet
    But mai bhi Maharashtra me fansa hu Maharashtra me kab bhejenge yanha bhi log bahut muskil me jivan byatit kr rahe hai so please Sir what you think

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed