1 November 2020

झारखंड के हवाई चप्पल वाले प्रवासी मजदूर हवाई जहाज से आ रहे वापस मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का प्रयास रंग लाया झारखंड फिर रचा इतिहास

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सबसे बड़ी खबर: झारखंड ने फिर रचा इतिहास, मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का सफल हुआ प्रयास, गुरूवार को झारखंडी मजदूरों का पहला जत्था हवाई जहाज से पहुंचेगा झारखंड :

झारखंड की हेमंत सरकार ने एक बार फिर नया इतिहास रच दिया है. लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों के लिए देश में पहली ट्रेन रांची के नाम दर्ज करवाकर इतिहास के पन्नो में रांची का नाम अंकित करवाने वाले मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने वो कर दिखाया है. जिसकी कल्पना देश में फिलहाल कोई नहीं कर सकता था. गुरूवार को झारखंडी मजदूरों का पहला जत्था हवाई जहाज से झारखंड की सरजमीं पर पहुंचेगा. इसकी तैयारी प्रशासन ने पूरी कर ली है. नेशनल लॉ स्कूल, बैंगलोर और झारखंड सरकार के संयुक्त तत्वावधान से गुरूवार को गरीब झारखंडी प्रवासी मजदूरों का पहला जत्था रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर उतरेगा. आज श्रम मंत्री सत्यानंद भोक्ता ने खुद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मुलाकात कर इसकी पूरी जानकारी दी. श्रम मंत्री सत्यानंद भोक्ता ने कहा की हेमंत सोरेन सरकार ने जो कहा, वो कर दिखाया. अब हवाई चप्पल पहनने वाला भी हवाई जहाज के जरिये झारखंड पहुंचेगा. अबतक देश में किसी भी राज्य के प्रवासी मजदूरों को हवाई जहाज के माध्यम से नहीं लाया गया है. झारखंड अपने प्रवासी मजदूरों को हवाई मार्ग से लाने वाला पहला राज्य बन गया है.

कल मुंबई से, शुक्रवार को लेह से आएंगे मजदूर :

गुरूवार को हवाई जहाज से झारखंड के प्रवासी मजदूरों का पहला जत्था सुबह एयर इंडिया के विशेष विमान से 8:15 में रांची स्थित बिरसा मुंडा एयरपोर्ट में उतरेगा. वही शुक्रवार को झारखंड की हेमंत सरकार के सौजन्य से लेह से झारखंडी मजदूरों को एयर इंडिया के विशेष विमान के जरिये दोपहर लगभग एक बजे रांची लाया जायेगा. मजदूरों को लाने का पूरा किराया हेमंत सरकार वहन करेगी. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आज बताया की अंडमान निकोबार और लद्दाख से झारखंडी मजदूरों को लाने के लिए पूरी प्रक्रिया जल्द पूरी कर ली जाएगी.

हेमंत सोरेन ने कहा था- जरुरत पड़ी तो हवाई जहाज से भी लाएंगे मजदूरों को :

बताते चले की मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कई मौको पर कहा था की जरुरत पड़ी तो हवाई जहाज से भी झारखंड के मजदूरों को लाया जायेगा. सीएम ने 12 मई को केंद्रीय गृह मंत्रालय को लिखे पत्र में भी लेह, लद्दाख, अंडमान निकोबार और उत्तर पूर्व के राज्यों से विशेष विमान के जरिये मजदूरों को लाने की अनुमति मांगी थी. मगर केंद्र सरकार ने इसकी इजाजत नहीं दी. 25 मई से देशभर में घरेलु उड़ान शुरू होने के साथ ही सीएम हेमंत सोरेन ने अपने संकल्प को पूरा किया. और अब हवाई जहाज से झारखंडी मजदूरों को लाने का सिलसिला शुरू हो गया है.


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed