24 October 2020

झारखंड सरकार ने प्रवासी मजदूरों को चार्टर प्लेन से लाने के लिए केंद्र से 3 दिनों पूर्व NOC मांगी :: CM हेमंत सोरेन

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

लॉकडाउन देश में पहला स्पेशल श्रमिक ट्रेन चलाने का श्रेय काम झारखंड हेमंत सरकार के नाम रहा है झारखंड सरकार ने ही सर्व प्रथम केंद्र सरकार से ट्रेन चलाने की मांग की थी अब उसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए प्रवासी मजदूरों के सहायतार्थ चार्टर्ड प्लेन सेवा की भी शुरुआत झारखंड हेमंत सरकार करना चाहती है इसके लिए गृह मंत्रालय से झारखंड सरकार की ओर से अनुमति प्रदान करने की एनओसी की मांग कर दी गई है झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आज झारखंड मंत्रालय में बतलाया।

ना सिर्फ़ ट्रेनों से बल्कि हम अपने श्रमिक साथियों को चार्टर प्लेन से भी राज्य वापस लाने की कोशिश कर रहे हैं जिसके लिए हमने केंद्र से 3 दिन पहले ही NOC माँगी है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन :

इससे पूर्व एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने बताया रेल मंत्रालय के अधिकारियों द्वारा रेल मंत्री पीयूष गोयल जी को उनके अपने अधिकारियों के द्वारा गलत फीडबैक की जानकारी दी गई होगी हमने कल से पूर्व ही कुल 110 ट्रेनों की एनओसी राज्य सरकार की ओर से रेल मंत्रालय को जारी कर दिया गया।

रेल मंत्री पीयूष गोयल के द्वारा झारखंड सरकार को कटघरे में खड़ा करना उससे पूर्व रेल मंत्री पीयूष गोयल का ट्वीट के माध्यम से झारखंड के नेताओं को रेल चलाने का श्रेय देना पूरी तरह राजनीति से प्रेरित नजर आता है क्योंकि रेल मंत्री पीयूष गोयल ने अपने झारखंड के नेताओं का नाम लेकर उनको श्रेय देने का काम किया झारखंड में भाजपा की डूबती नैया को रेल मंत्री चन्द रेलों के द्वारा झारखंड हेमंत सरकार को कटघरे में खड़ा कर केंद्र सरकार के झूठ के वैशाखी पर भाजपा पार्टी को झारखंड में पूरी तरह डूबने से बचाना चाहते हैं

बीजेपी की पोल खोलता झारखंड सरकार का पत्र सार्वजानिक :

  • झारखंड बीजेपी के नेता और केंद्रीय मंत्री मजदूरों के बहाने राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को घेरने की नाकाम कोशिश करते दिखाई दे रहे है. बल्कि हकीकत तो ये है कि झारखंड सरकार द्वारा 110 ट्रेनों को एनओसी दिए जाने के बावजूद केंद्र सरकार झारखंड के प्रति उदासीन रवैय्या रखे हुए है. यही नहीं ये जो पत्र आप देख रहे है वो 12 मई को केंद्रीय गृह मंत्रालय को झारखंड सरकार की ओर से लिखा गया है. जिसमे राज्य की हेमंत सरकार ने अंडमान निकोबार द्वीप समूह से झारखंड के प्रवासी श्रमिकों और मजदूरों को चार्टर्ड प्लेन (विशेष विमान) के जरिये लाने की अनुमति मांगी थी, जिसे अबतक केंद्र सरकार ने मंजूर नहीं किया है. सवाल उठता है की झारखंड बीजेपी के नेता केंद्र सरकार को ढाल बनाकर झारखंड के प्रवासी मजदूरों के साथ अत्याचार क्यों कर रहे है ? झारखंड में बीजेपी कोटे से 12 सांसद है, बावजूद इसके एक भी सांसद ने अबतक केंद्र सरकार से क्यों नहीं कहा कि झारखंड सरकार की ओर से विशेष ट्रेनों या विशेष विमान की जो मांग की गयी है, उसे केंद्र सरकार जल्द मंजूरी दे. साफ़ है की बीजेपी के नेताओ को झारखंड के मजदूरों और श्रमिकों से कोई वास्ता नहीं है. बीजेपी के नेता झारखंडी मजदूरों की बेबसी को सियासी हथियार बनाने की शर्मनाक कोशिश में लगे है. जिसका जवाब निःसंदेह झारखंड की जनता आने वाले दिनों में देगी.


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

1 thought on “झारखंड सरकार ने प्रवासी मजदूरों को चार्टर प्लेन से लाने के लिए केंद्र से 3 दिनों पूर्व NOC मांगी :: CM हेमंत सोरेन

  1. Sir me Andhra Pradesh Kurnool district me fsha hun sir hme yahan se koi bhi bewastha nahi mil raha hai sir nahi hai nahi hm yahan se jharkhand giridih kb tk jaunga sir please help me sir

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed